Sunday, August 14, 2011

ये कैसी आजादी

ये कैसी आजादी


पंकज व्यास
चाहे लोकपाल बिल हो, या काला धन भारत में लाने की मांग, इस आजाद (?)देश में विरोध के लिए भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। अन्ना हजारे से लेकर बाबाराम देव तक जो घटनाक्रम चला, व चल रहा है, उससे यह सवाल सहज ही उठ जाता है कि क्या आजादी का पंछी बेबश है? उसकी आंखों में बेबसी साफ नजर आ जाती है। स्वतंत्र भारत में आजादी के पंछी को घुटन महसूस हो रही है। गुलामी की जंजीरें तोड़ तो दी गई हंै, पिंजरे को खेल तो दिया है, लेकिन लगता है कई पहरूएं बिठा दिए गए है। वो सोच रहा है ये कैसी आजादी?
बीते बरस जब हम १५ अगस्त मना रहे थे, तब तक कश्मीर जल रहा था, अलगाववाद की लपटें उठ रहीं थीं, राज्यों में नक्सलवाद हाहाकार मचा रहा था, महाराष्ट्र में भाषायी आतंकवाद जब-तब खड़ा हो रहा था, तो हर ओर जातिवाद गहराता जा रहा था, तब कहीं कोई ऐसा व्यक्तित्व नजर नहीं आ रहा था, जिसकी एक आवाज पर देशवासी जातपात, धर्म-प्रांत, भाषा, अगड़े-पिछड़े, दलित-सवर्ण के भेद को भुलाकर खड़े हो जाए। लेकिन, इस स्वतंत्रता दिवस तक आते-आते परिदृश्य बदल चुका है। स्वतंत्र भारत केआसमान पर दो सितारे ऐसे उभरे हैं, जिनकी आवाज पर लोग सारे भेदभाव भूलाकर खड़े होने को तैयार दिखते हैं।
लोकपाल के लिए अन्ना हजारे द्वारा किए गए अनशन को जन-जन का जिस तरह से समर्थन मिला, कालेधन को भारत में लाने की मांग को लेकर किए गए बाबा रामदेव के सत्याग्रह आंदोलन में जिस तरह से लोगों की भागीदारी देखने को मिली, उसने यह साबित कर दिया कि इन दोनों की आवाज पर लोग मुद्दे की बात पर, साफ-सुथरे नेतृत्व के साथ देशहित के लिए एक हो सकते हैं, एक साथ खड़े हो सकते हैं।
लेकिन, बाबा रामदेव द्वारा चलाए गए सत्याग्रह के दौरान आंदोलनकारियों के साथ जिस तरह से अमानवीय कार्रवाई की गई, जिस तरह से अन्ना हजार को उलझा कर रख दिया गया, उससे आजादी का पंछी कहीं न कहीं बेबश नजर आता है। लगता है आजादी पर कई पहरूएं बिठा दिए गए हैं, सिद्धांत रूप में तो सिखचें खोल दिए गए हैं, लेकिन यथार्थ में आज भी वह बेबश है, उसे घुटन हो रही है।
मुद्दा बाबा रामदेव के सत्याग्र्रह आंदोलन, अन्ना हजारे के अनशन की प्रासंगिकता का नहीं है, मुद्दा है इस स्वतंत्र भारत में जनहित के लिए विरोध पर लगी अप्रत्यक्ष बंदिशों का है। सारा घटनाक्रम यह साबित करता है कि अगर तंत्र का विरोध किया, तो उलझ कर रह जाओंगे।
सबसे बड़ी बात तो ये हैं कि अन्ना हजारे या बाबा रामदेव खुद के लिए आंदोलन तो नहीं कर रहे हैं, वे अगर एक मजबूत लोकपाल बिल चाहते हैं, वे अगर विदेशों में जमा कालेधन को भारत में लाने की मां” कर रहे हैं, तो क्या गलत कर रहे हैं।
दरअसल, राष्ट्रीय स्तर पर चल रहे घटनाक्रम में सरकारों की सामंतवादी सोच जाहिर हुई है, जो अपने खिलाफ उठने वाली किसी आवाज को पसंद नहीं करती है। ये इस देश का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि यहां स्वार्थ की राजनीति के लिए, दिखावटी विरोध तो आसानी से किए जा सकते हैं, लेकिन जो मुद्दे की बात करते हैं, बड़ी शिद्दत के साथ जनहित से जुड़े होते हैं, उन्हें राजनीति में उलझाकर रख दिया जाता है। बाबा रामदेव और अन्ना हजारे उसी सामंतवादी सोच और कुत्सित राजनीति के शिकार हो रहे हैं, जिसमें अपने खिलाफ उठने वाली आवाजों को दबा दिया जाता है।
लेकिन, इतना सब होते हुए भी उम्मीद की रोशनी नजर आती है, पिछले स्वतंत्रता दिवस तक जहां देश में कोई ऐसा नेतृत्व नजर नहीं आ रहा था, जिसकी आवाज पर देशवासी एक हो जाए, वहीं इस आजादी के पर्व पर हमें एक नहीं दो-दो सितारे स्वतंत्र भारत के आसमान पर नजर आ रहे हैं, जिनकी आवाज पर देशवासी हर प्रकार का भेदभाव भुलाकर एकता के सूत्र में बंधने को तैयार नजर आ रहे हैं।

2 comments:

Sunil Kumar said...

सार्थक पोस्ट, सही बात मानने में क्या हर्ज ?

Amit Chandra said...

bilkul sahi kaha aapne.