Thursday, August 13, 2009

वृक्षारोपण कैसे करते हैं साब?

पंकज व्यास, रतलाम
आजकल बड़ा जोर हैं वृक्षा रोपण का। गांव-गांव, शहर-शहर वृक्षारोपण हो रहा है। अखबार पटे हुए हैं वृक्षारोपण की खबरों से। अलां जगह वृक्षारोपण हुआ, फलां जगह वृक्षारोपण हुआ।
एक दिन एक व्यक्ति आकर मुझे बोला-क्यों भई वृक्षारोपण किया कि नहीं?ï मैंने कहा- वृक्षारोपण करते कैसे है? पहले यह तो बता दीजिए। वह बोला देखा नहीं सब वृक्षारोपण कर रहे हैं।
मैंने कहा- वृक्ष तो रौंपे-रोपाए हैं, उन्हें रोपने की क्या जरूरत है।
वह बोला- मैं समझा नहीं!
मैंने कहा- वृक्ष तो ऑलरेडी खड़े हुए हैं। मान लो उन्हें रौपना भी चाहें, तो कैसे रोपेंगे। इतने बड़े-बड़े वृक्षों को कैसे उठाएंगे, कैसे रोपेंगे..?
वह व्यक्ति बोला- मैं उन वृक्षों की बात थोड़ी कर रहा हूं। पौधों की बात कर रहा हूूं। वृक्ष कोई रौंपे जाएंगे। पौधे रौपें जाएंगे।
मैंने कहा- जब आप पौधे रोंप रहे हैं, पौधा-रोपण कर रहे हैं तो वृक्षा रोपण क्यों बोल रहे हैं। पौधा रोपण बोलिए ना।
वह व्यक्ति हो..हो..हो.. करके हंसने लगा और कहा- तुम भी यार!
बंधुओं वह व्यक्ति तो मेरी बात पर हंसने लगा। अब आप क्या करते हैं आप जाने। पौधा रोपण को पौधा रोपण कहते हैं या वृक्षा रोपण ये आप ही जाने...। मैं गलत हूं तो बताईए?

1 comment:

दिगम्बर नासवा said...

Aap theek kah rahe hain.........ye podhaa ropan hi hai.....majedaar hai

aise hi log kahte hain aata piswaane jaa rahaa hun......bhai aata nahi genhoo piswaane jate hain......